Topics :

शनिवार, अक्तूबर 15, 2011

Home » » लाल किताब : आमने-साहमने के ग्रह

लाल किताब : आमने-साहमने के ग्रह

मंगल : मंगल बद (भाई) अपनी बला केतु (लड़का) पर डालता है | शेर कुत्ते को मरवा देगा |

मसलन (उदाहरण) : सूरज खाना नंबर 6, मंगल खाना नंबर 10 लड़के पर लड़का (केतु) मरता जावे | (भाई भतीजे को मरवाए) | शुक्र : शुक्र (औरत) शैतान स्वभाव खुद अपनी बला चन्द्र यानि कुंडली वाले की माता पर जा धकेलेगी | मसलन (उदाहरण) : चन्द्र शुक्र बिल्मुकाबिल आमने साहमने) हो तो माता अंधी हो जावे | बृहस्पत : बृहस्पत ने अपना साथी केतु को ही कुर्बानी के लिए रखा है | मसलन बृहस्पत खाना नंबर 5 और केतु किसी और घर में, अब अगर बृहस्पत की महादशा आ जाए तो केतु के खाना नंबर 6 का फल रद्दी होगा, औलाद का नहीं, जो खाना नंबर 5 की चीज़ है | मामू को केतु की महादशा 7 साल तकलीफ होगी | सूरज : अपनी मुसीबत के वक्त केतु पर नजला (अपना मंदा असर) डाल देगा | चन्द्र : अपने दोस्त ग्रहों (बृहस्पत सूरज मंगल) पर अपनी बला डाल देगा | राहु केतु : खुद ही अपना आप निभायेंगे और अपनी ही मुताल्लिका (सम्बंधित) अश्या (वस्तुएं) कारोबार या रिश्तेदार मुतल्ल्का राहु या केतु पर मुसीबत का भूचाल पैदा करेंगे | लाल किताब पन्ना नंबर 46

यदि आपने इस लेख को पसंद किया है कृपया इस ब्लॉग के प्रशंसक भी बनिए !!

"टिप्स हिन्दी में ब्लॉग" की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त पाएं !!!!!!!!!!

Share this post :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी मेरे लिए मेरे लिए "अमोल" होंगी | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | अभद्र व बिना नाम वाली टिप्पणी को प्रकाशित नहीं किया जायेगा | इसके साथ ही किसी भी पोस्ट को बहस का विषय न बनाएं | बहस के लिए प्राप्त टिप्पणियाँ हटा दी जाएँगी |