Topics :

शुक्रवार, अक्तूबर 14, 2011

Home » » लाल किताब : जन्म दिन और जन्म वक्त का ताल्लुक

लाल किताब : जन्म दिन और जन्म वक्त का ताल्लुक

साथ ग्रह :- 1. जब कोई ग्रह आपस में अपनी-अपनी मुकर्रर (निश्चत) राशि ऊंच नीच घर की राशि या अपने-अपने पक्के घरों में अदल-बदल कर बैठ जावें या अपनी जड़ों के लिहाज से इकठ्ठे हो जावें तो साथी ग्रह कहलाते हैं | मसलन सूरज का पक्का घर खाना नंबर 5 है और शनि का पक्का घर खाना नंबर 10 है | अब अगर शनि हो खाना नंबर 5 में और सूरज खाना नंबर 10 में तो दोनों बाह्म (आपस में) साथी ग्रह होंगे |

2. कुंडली के हर खाना की मुश्तरका लकीर या दिवार हमसाया ग्रहों (सिर्फ दोस्तों) को मिलाया करती है | मगर दुश्मनों को अलाहदा-अलाहदा रखती है यानि कुंडली के किसी दो घरों में बैठे हुए ग्रह ज बाह्म (आपस)\ में दोस्त हों और कुंडली के घर जिनमें वह बैठे हैं सिर्फ एक लकीर से जुदा-जुदा हो रहे हों तो इकठ्ठे या साथ ग्रह कहलाते हैं | जो एक दूसरे का भी बुरा न करेंगे मगर दो दुश्मन गिने हुए ग्रहों की हालत में दो खानों की दरमियानी लकीर (ख़त) उन ग्रहों को जुदा-जुदा ही रखेगी | कियाफा (सामुद्रिक शास्त्र):- एक रेखा के साथ साथ ही दूसरी रेखा, एक ही किसम की रेखा होगी | बशर्ते कि दोनों एक ही बुर्ज पर वाकई हों | ऐसी शाखों से मुराद होगी कि कोई अपना ही भाई बहन साथ चल रहा होगा, या वह दूसरी शाख अपने ही खून का ताल्लुकदार बताएगी | बिल्मुकाबिल (आमने-साह्मने) के ग्रह :- जो ग्रह आपस में दोस्त हों, मगर ऐसी हालत में बैठे हों कि खुद तो वह दोस्त लाल किताब पन्ना नंबर 44

मुझसे ई-मेल द्वारा संपर्क करने के लिए यहाँ पर कलिक करें

यदि आपको ये लेख पसंद आये तो कृपया टिप्पणी के साथ ही इस ब्लॉग के प्रशंसक भी बनिए !!

"टिप्स हिन्दी में ब्लॉग" की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त पाएं !!!!!!!!!!

Share this post :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी मेरे लिए मेरे लिए "अमोल" होंगी | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | अभद्र व बिना नाम वाली टिप्पणी को प्रकाशित नहीं किया जायेगा | इसके साथ ही किसी भी पोस्ट को बहस का विषय न बनाएं | बहस के लिए प्राप्त टिप्पणियाँ हटा दी जाएँगी |