Topics :

शनिवार, सितंबर 03, 2011

Home » » asli lal kitab hindi mein : farman no.-6 page-26

asli lal kitab hindi mein : farman no.-6 page-26

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में फरमान न: 6 पेज़-26

फरमान न: 6 1.    ग्रहों के विस्तारपूर्वक दिए गए बयानों में देखने से विदित होगा कि ब्रह्माण्ड की भिन्न-भिन्न वस्तुओं को विशेष-विशेष भागों में निश्चित करके हर एक भाग का नाम हमेशां के लिए एक ही निश्चित कर दिया गया है और उन तमाम चीजों को लिखने पढ़ने में बार-बार दोहराने की या उनके लिए निश्चित किया हुआ एक नाम का जिक्र कर देते हैं उदाहरणता स्त्री गाय लक्ष्मी आदर्श के लिए केवल एक शब्द शुक्र निश्चित है तो जहां कहीं भी शुक्र का जिक्र होगा तो स्त्री गाय लक्ष्मी, मिटटी आदि से अभिप्राय होगा |

2.      राशियों की तरह ग्रहों के लिए कोई पक्का अंक निश्चित नहीं है मगर उनकी भिन्न लिखित विशेष प्रकार अवश्य निश्चित है
गुरु रवि और मंगल तीनो,
नर ग्रह भी कहलाते हैं
शनि राहु और केतु तीनों,
पापी ग्रह बन जाते हैं
शुक्र लक्ष्मी चन्द्र माता,
दोनों स्त्री होते हैं
बुध मुखन्नस चक्र सभी का,
जिससे सभी में घूमते हैं
नेकी बदी दो मंगल भाई,
शहद ज़हर दो मिलते हैं
बदलालच गर मारे दुनिया,
नेक दान को गिनते हैं
राहु और केतु सिर्फ दोनों को,
पाप के नाम से याद करते हैं
      राहु और केतु सिर्फ दोनों को, पाप के नाम से याद करते हैं | जब शनिच्चर को राहु या केतु किसी तरह से भी आ मिलते हैं तो शनिच्चर पापी होगा | और वैसे राहु भी केतु शनिच्चर तीनों का इकठ्ठा नाम पापी है |

लाल किताब पन्ना नंबर 28


26

यदि आपको ये लेख पसंद आये तो कृपया टिप्पणी जरूर करें | (किसी भी मुश्किल दरवेश होने पर आप मुझसे संपर्क करें)

Share this post :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी मेरे लिए मेरे लिए "अमोल" होंगी | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | अभद्र व बिना नाम वाली टिप्पणी को प्रकाशित नहीं किया जायेगा | इसके साथ ही किसी भी पोस्ट को बहस का विषय न बनाएं | बहस के लिए प्राप्त टिप्पणियाँ हटा दी जाएँगी |