Topics :

गुरुवार, जनवरी 26, 2017

Lal Kitab 1942

Ilm Samudrik Ki Lal Kitab Tarmimshuda 1942 DVD awailable Now पंडित रूप चंद जोशी जी द्वारा लिखित पांच अनुपम ग्रंथ लाल किताब के फरमान 1939, लाल किताब के अरमान 1940, लाल किताब (तीसरा हिस्सा) 1941, लाल किताब तरमीमशुदा 1942, व सबसे अंत में लाल किताब 1952 उपलब्ध करवाए गया ये एक अंक अद्दभुत भेंट है | ये पांचो संस्करण आज अलग अलग पुस्तक के रूप में सभी को सुलभ हैं | लेकिन ! आज के डिजिटल युग में इनके डिजिटल संस्करण उपलब्ध नहीं है | श्री योगराज प्रभाकर जी ने सबसे पहले लाल किताब (तीसरा हिस्सा) 1941 का डिजिटल रूप आम जनमानस का अपने ज़ाती प्रयासों से सन 2007 में उपलब्ध करवा दिया था | काफ़ी देर से मेरे मन में भी ये विचार आते रहे हैं कि काश सभी वर्ज़न डिजिटल रूप में उपलब्ध होते | मेंरे मन में दबी इच्छा ने फिर से इन संस्करणों के डिजिटल प्रारूप को जनमानस को उपलब्ध करवाने की इच्छा ने करवट ली | मैं श्री योगराज प्रभाकर जी से पहले ही प्रभावित था | इन सब से प्रभावित हो कर ही मैंने इल्म सामुद्रीक़ की लाल किताब तरमीमशुदा 1942 को डिजिटल रूप देने का संकल्प लिया व इस काम को अकेले ही शुरू कर दिया | इस वर्जन को 18-01-2017 को सब के लिए उपलब्ध करवाने का जो वादा आप सब से किया गया था आज उसी संकल्प को पूरे होने पर आज 18-01-2017 को सब के लिए परम पूजनीय पंडित रूप चंद जोशी जी के जन्म दिन पर इल्म सामुद्रीक़ की लाल किताब तरमीमशुदा 1942 का डिजिटल संस्करण एक DVD के रूप में सब के लिए उपलब्ध करवाया जा रहा है | इस कार्य को पूर्ण करने के लिए श्री बलदेव राज वर्मा जी, श्री मिल्ख राज बाघला जी ने उत्साह पूर्ण हौसला आफजाई की, मैं उनका दिल से शुक्रगुजार हूँ | इल्म सामुद्रिक की लाल किताब तरमीमशुदा 1942 का डिजिटल वर्ज़न lalkitab1952.com पर आनलाइन उपलब्ध है इस डिजिटल वर्ज़न की कुछ झलकियाँ पेश हैं
इल्म सामुद्रीक़ की लाल किताब तरमीमशुदा 1942 को shopclues.com से पाने के लिए क्लिक करें







nify


"टिप्स हिन्दी में ब्लॉग" की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त पाएं ! Save as PDF

Share this post :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी मेरे लिए मेरे लिए "अमोल" होंगी | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | अभद्र व बिना नाम वाली टिप्पणी को प्रकाशित नहीं किया जायेगा | इसके साथ ही किसी भी पोस्ट को बहस का विषय न बनाएं | बहस के लिए प्राप्त टिप्पणियाँ हटा दी जाएँगी |